Boycott China Product 2020: चीन का बहिष्कार कितना आसान, जानिए इस रिपोर्ट

चीन आज पूरे ग्लोबल मार्केट मे घिरा हुआ| जहा करोना वायरस के वजह से पूरी दुनिया एक कोने मे तो चीन दूसरी कोने मे खड़ी नज़र आ रही है करोना वायरस महामारी के बाद भारत के साथ सीमा विवाद के बाद चीन पूरी दुनिया के नज़रो मे भी खटक रहा है देखा जाए तो अमेरिका, रूस और अन्य देश ने चीन के खिलाफ हर मोर्चे पर आमने सामने खड़े नज़र आ रहे है

Boycott China Product 2020: चीन का बहिष्कार कितना आसान, जानिए इस रिपोर्ट

अब जब पूरी दुनिया चीन से अपने अपने कारोबार समेटने में लगा हुआ है तो कोरोना वायरस महामारी और फिर चीन के साथ सीमा विवाद के बाद भारत में भी चीनी सामानों का बहिष्कार करने की मांग पहले से ज़्यादा जोर-शोर से उठ रही थी। मंगलवार को हुए सीमा पर हिंसक झड़प में 20 भारतीय जवानों के शहीद होने की भी खबर ने पूरे देश को झिकझोड़ कर रख दिया है। चीन की इस धोखेबाजी से अब लोगों का गुस्सा और अधिक बढ़ सकता है, जिससे चीनी समान के खिलाफ असली गुस्सा बाहर आ सकता है।लेकिन यहा मुख्य सवाल यह आता है की कितना आसान है चीन को भारत के बाजार से उखाड़ फेखना और उसके बाद भारतीय बाजार पर इसका क्या प्रभाव पड़ेगा। आंकड़ों पर गौर करने के बाद यह समझ आएगा कि भारत में चीनी उत्पादों से दूरी बना पाना कितना मुश्किल है।


Boycott China Product 2020: स्मार्टफोन : चीन का 72% मार्केट पर कब्जा


भारत मे अगर हम बात करे मोबाइल फ़ोन की तो देश में स्मार्टफोन बाजार लगभग 2 लाख करोड़ रुपये का है, जिसमें चीन की हिस्सेदारी लगभग 72% है। चीनी स्मार्टफोन से निजात पाना बेहद मुश्किल है, क्योंकि चीनी मोबाइल कंपनी का दबदबा हर प्राइस सेगमेंट में है चाहे यह स्मार्ट फोन हो या फ्लॅगशिप फोन और आरऐंडडी में भी यह काफी आगे है।


Boycott China Product 2020: दूरसंचार उपकरण : चीन का 25% मार्केट पर कब्जा


दूरसंचार उपकरणों का भारत में बाजार 12,000 करोड़ रुपये का है, जिसमें चीन की हिस्सेदारी 25% है। चीनी दूरसंचार उपकरणों से भी निजात पा सकते हैं, लेकिन यह हमारे लिए काफी महंगा पड़ेगा। टेलिकॉम कंपनियों के मुताबिक, अगर वे अमेरिकी तथा यूरोपीय दूरसंचार उपकरणों को खरीदने का विचार करते हैं तो उनकी लागत 10-15% तक बढ़ जाएगी।


Boycott China Product 2020: टेलिविजन : चीन का 45% मार्केट पर कब्जा


भारत में टेलिविजन का बाजार 25,000 करोड़ रुपये का है। स्मार्ट टेलिविजन बाजार में चीनी कंपनियों की हिस्सेदारी लगभग 45% और गैर-स्मार्ट टेलिविजन मार्केट में 7-9% है। अगर एक पल के लिए हम सोचते भी है की हम चीन का इस मार्केट मे पूर्ण रूप से बहिष्कार करे, लेकिन यह बेहद महंगा पड़ेगा, क्योंकि गैर-चीनी टेलिविजन 20-45% महंगे हैं।


वहीं देश में होम अप्लायंसेज का मार्केट साइज 50 हजार करोड़ रुपये का है, जिसमें चीनी कंपनियों की हिस्सेदारी 10-12% है।


Boycott China Product 2020: ऑटोमोबाइल पार्ट : चीना का 26% मार्केट पर कब्जा


देश में ऑटोमोबाइल पार्ट का बाजार 4.27 लाख करोड़ रुपये का है, जिसमें चीनी कंपनियों की हिस्सेदारी 26% है। इस सेगमेंट में भी चीनी माल से निजात पाना मुश्किल होगा, क्योंकि इसके लिए घरेलू या वैश्विक विकल्प ढूंढना आसान नहीं होगा।


Boycott China Product 2020: इंटरनेट ऐप : चीनी ऐप के दीवाने भारतीय यूजर


देश में 45 करोड़ स्मार्टफोन यूजर हैं, जिसमें 66% लोग कम से कम एक चीनी ऐप का इस्तेमाल करते हैं। यह एक ऐसा सेगमेंट में चीन से निजात पाना आसान हो सकता है, लेकिन एक तरफ भारतीय यूजर्स है जिनको टिकटॉक जैसे ऐप से मोह को त्यागना होगा और जिस तरह के हालत है, ये पार पाना भी मुश्किल लग रहा है| इसका विकल्प ढूंढने में भारत को अभी तक नाकामी ही हाथ लगी है।


Boycott China Product 2020: सौर ऊर्जा : चीन का 90% मार्केट पर कब्जा


देश में सौर ऊर्जा का मार्केट साइज 37,916 मेगावाट का है, जिसमें चीनी कंपनियों की हिस्सेदारी 90% है। इस सेगमेंट में चीनी माल से निजात पाना लगभग नामुमकिन है, क्योंकि घरेलू मैन्युफैक्चरिंग कंपनियां उतने सक्षम हैं और अन्य विकल्प महंगे हैं।


Boycott China Product 2020: स्टील : चीन का 20% मार्केट पर कब्जा


देश में स्टील का मार्केट साइज 108.5 मीट्रिक टन का है, जिसमें चीनी माल की हिस्सेदारी 18-20% है। इस सेगमेंट में हम चीनी माल से आजादी पा सकते हैं, लेकिन यह कठिन होगा। कुछ उत्पादों के लिए चीन की कीमत के बराबर के उत्पाद खोजना मुश्किल होगा।


Boycott China Product 2020: फार्मा/एपीआई : चीन का 60% मार्केट पर कब्जा


भारत में फार्मा/एपीआई का मार्केट साइज 15,000 करोड़ रुपये का है, जिसमें चीनी कंपनियों की हिस्सेदारी 60% है। इस सेगमेंट में भी चीनी माल से निजात पाना बेहद कठिन होगा। अन्य स्रोत महंगे हैं और बड़ी केमिकल फैक्ट्रियों के आड़े कई तरह की मुश्किलें आएंगी।


दिल्ली के सदर बाज़ार के एक व्यवसायी सुनील बताते हैं, "चीन के गिफ़्ट आइटम इसलिए बहुत लोकप्रिय हैं क्योंकि वो सस्ते हैं, बहुत सुंदर हैं, बहुत प्रेज़ेंटेबल हैं इस वक़्त पूरा सदर बाज़ार चीन से ही माल मंगा रहा है और हर ग्राहक की ज़ुबान पर एक ही बात होती है कि कुछ नया मिला, कुछ सस्ता मिला और बहुत सुंदर मिला"


चीन भारत का सबसे बड़ा कारोबार सहयोगी है पिछले साल भारत ने चीन से 61 अरब डॉलर का साज़ोसामान आयात किया था, जबकि भारत ने चीन को महज़ नौ अरब डॉलर का निर्यात किया भारत में आयात किए जाने वाले सामान में गिफ़्ट आइटम्स, टीवी, कम्प्यूटर के सामान, फ़ोन और लैंप्स वगैरह शामिल हैं हालांकि चीन के समान का बहिष्कार करके उसे सबक सिखाना इतना आसान भी नहीं हो पाएगा क्योंकि उसका सामान सस्ता भी है और फिलहाल उसकी बराबरी करने वाला भी मौजूद नहीं है और यही चीन की सबसे बड़ी ख़ासियत है


Disclaimer: बेफिकर पोस्टमॅन की टीम किसी भी रूप से चीनी समान या ऐप को सपोर्ट नही करता है। यह पोस्ट एक विश्लेषण मात्र है की जो हम सोच रहे है उसका हम पर क्या प्रभाव पड़ेगा। यह पार्ट 1 है, पार्ट 2 जल्दी ही पब्लिश होगा।

27 views

Subscribe to Our Newsletter

  • White Facebook Icon

© All Rights reserved for Befikar Postman