Dr. Kafeel Khan Update: 'जुडिशरी का शुक्रगुजार, STF का धन्यवाद जो मुझे मारा नहीं': डॉ. कफील खान

Dr. Kafeel Khan: एंटी CAA कानून के खिलाफ हो रहे प्रर्दशन में डॉक्टर कफील खान (Dr. Kafeel Khan) ने कथित तौर पर एक भड़काऊ भाषण दिया था जिसके बाद पुलिस ने उन्हें (Dr. Kafeel Khan) गिरफ्तार कर लिया और NSA भी लगाया। लेकिन बीते दिन आये इलाहबाद हाई कोर्ट के फैसले ने उत्तरप्रदेश के स्थानीय प्रशासन पर सवालिया निशान लगा दिया हाई। अपने रिपोर्ट में इलाहाबाद हाई कोर्ट ने डॉक्टर कफील खान (Dr. Kafeel Khan) को मथुरा जेल से तुरंत रिहा करने के आदेश दिया।

Dr. Kafeel Khan Update: 'जुडिशरी का शुक्रगुजार, STF का धन्यवाद जो मुझे मारा नहीं': डॉ. कफील खान

देर रात रिहाई को लेकर चला ड्रामा खत्म हो गया। 1 सितंबर को हाई कोर्ट में सुनवाई के दौरान मुख्य न्यायाधीश गोविंद माथुर की बेंच ने कफील (Dr. Kafeel Khan) पर लगाए NSA (राष्ट्रीय सुरक्षा कानून) को भी रद्द कर दिया था। रिहाई के बाद डॉ. कफील (Dr. Kafeel Khan) ने योगी सरकार पर जमकर निशाना साधा।


अलीगढ़ प्रशासन की ओर से लगाए गए NSA को रद्द करते हुए डॉक्टर कफील (Dr. Kafeel Khan) को तत्काल जेल से ज़मानत पर रिहा करने का आदेश दिया गया था। हालांकि देर शाम तक अलीगढ़ ज़िला प्रशासन की ओर से रिहाई संबंधी कोई ऑर्डर मथुरा जेल नहीं भेजे जाने से रिहाई अटकी हुई थी। मध्य रात्रि में मथुरा जेल पहुंचे रिहाई के ऑर्डर के बाद डॉ कफ़ील (Dr. Kafeel Khan) को रिहा किया गया। हाई कोर्ट ने सुनवाई के दौरान सुबह ही रिहाई का आदेश कर दिया था।


Dr. Kafeel Khan Update: 'संघर्ष में साथ देने वाले सभी का धन्यवाद'


रिहा होने के बाद डॉ कफील (Dr. Kafeel Khan) ने मथुरा जेल प्रशासन और योगी सरकार पर हमला बोला। उन्होंने राज्य सरकार पर प्रताड़ित करने का आरोप लगाया है। डॉक्टर कफील (Dr. Kafeel Khan) ने कहा, 'मैं जुडिशरी का बहुत शुक्रगुजार हूं, जिन्होंने इतना अच्छा ऑर्डर दिया है। सभी 138 करोड़ देशवासियों का धन्यवाद और उन लोगों का धन्यवाद जिन्होंने संघर्ष में मेरा साथ दिया।'


Dr. Kafeel Khan Update: आरोप झूठे केस थोपे, 5 दिन बिना खाना-पानी के रखा: कफील


कफील (Dr. Kafeel Khan) ने योगी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा, 'आदेश में उन्होंने लिखा है उत्तर प्रदेश सरकार ने एक झूठा बेसलेस केस मेरे ऊपर थोपा। बिना बात के ड्रामा करके केस बनाए गए और 8 महीने तक इस जेल में रखा। इस जेल में मुझे पांच दिन तक बिना खाना, बिना पानी दिए मुझे प्रताड़ित किया गया। मैं उत्तर प्रदेश के STF को भी धन्यवाद दूंगा, जिन्होंने मुंबई से मथुरा लाते समय मुझे एनकाउंटर में मारा नहीं है।'


Dr. Kafeel Khan Update: रिहाई से पहले चला ड्रामा


इससे पहले इलाहाबाद हाई कोर्ट के आदेश के घंटों बाद भी डॉक्टर कफील (Dr. Kafeel Khan) की मथुरा जेल से रिहाई देर शाम तक नहीं हो सकी थी। कफील (Dr. Kafeel Khan) नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ पिछले साल अलीगढ़ में भड़काऊ भाषण देने के आरोप में कार्रवाई हुई थी। राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत करीब साढ़े 7 महीने से वह मथुरा जेल में बंद थे। आदेश के बाद कफील (Dr. Kafeel Khan) के परिजन उनकी रिहाई के लिये मथुरा जेल पहुंचे लेकिन अधिकारियों ने आदेश न मिलने का हवाला देते हुए उन्हें रिहा करने से इनकार कर दिया था।


Dr. Kafeel Khan Update: कोर्ट क्या कुछ कहा इस पुरे मामले पर


इलाहाबाद हाई कोर्ट ने कथित भड़काऊ भाषण के आरोप में जेल में बंद डॉक्टर कफील खान (Dr Kafeel Khan) की तत्काल रिहाई का आदेश देते हुए कहा कि डीएम ने कफील (Dr. Kafeel Khan) के भाषण के कुछ हिस्से ही पढ़े, जबकि वक्ता के असली मंशा को नजरअंदाज कर दिया गया। कोर्ट ने डीएम की आलोचना करते हुए कहा कि डॉक्टर कफील (Dr. Kafeel Khan) का भाषण आपसी एकता को बढ़ावा देने वाला था। डॉक्टर कफील (Dr. Kafeel Khan) को देर रात मथुरा जेल से रिहा कर दिया गया।


उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश जस्टिस गोविंद माथुर और जस्टिस सौमित्र दयाल सिंह की पीठ ने मंगलवार को डॉक्टर कफील (Dr. Kafeel Khan) को तत्काल रिहा करने के आदेश दिए। कोर्ट ने कफील (Dr. Kafeel Khan) पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (NSA) लगाकर गिरफ्तार किए जाने को भी गैरकानूनी करार दिया। बता दें कि CAA विरोधी प्रदर्शन के दौरान दिसंबर 2019 में डॉक्टर कफील (Dr. Kafeel Khan) ने अलीगढ़ में छात्रों को संबोधित किया था। उनके भाषण को भड़काऊ मानकर केस दर्ज हुआ था।


कोर्ट ने फैसले में कहा, 'वक्ता (कफील) सरकार की नीतियों का विरोध कर रहे थे और इस दौरान उन्होंने कुछ उदाहरण दिए। लेकिन उस पर कहीं से भी हिरासत में लेने की संभावना को नहीं बनती थी। डॉक्टर कफील (Dr. Kafeel Khan) का भाषण हिंसा या नफरत बढ़ाने वाला नहीं, बल्कि राष्ट्रीय अखंडता और नागरिकों के बीच एकता बढ़ाने वाला था।'


12 दिसंबर 2019 को ऐंटी CAA प्रदर्शन के दौरान डॉक्टर कफील (Dr. Kafeel Khan) ने AMU में छात्रों को संबोधित किया था। उन पर भड़काऊ भाषण देने का आरोप लगा। यूपी ATS ने 29 जनवरी को उन्हें मुंबई से गिरफ्तार किया। मथुरा जेल में बंद कफी की रिहाई का आदेश अलीगढ़ कोर्ट ने 10 फरवरी को जारी कर दिया। हालांकि इसके बाद अलीगढ़ डीएम ने उनके खिलाफ रासुका लगा दिया, जिसके तहत उन्हें फिर से जेल में डाल दिया गया था।


Dr. Kafeel Khan Update: कोर्ट ने पूछा दिसंबर में भाषण देने के बाद फरवरी में कफील खान पर रासुका क्यों लगा


कोर्ट ने यह भी सवाल उठाया कि दिसंबर में भाषण देने के बाद फरवरी में कफील खान पर रासुका क्यों लगाया गया। कफील की रासुका की अवधि गत 6 मई को तीन महीने के लिये बढ़ाई गई थी। गत 16 अगस्त को अलीगढ़ जिला प्रशासन की सिफारिश पर राज्यपाल आनंदी बेन पटेल ने गत 15 अगस्त को उनकी रासुका की अवधि तीन माह के लिये और बढ़ा दी थी।

Subscribe to Our Newsletter

  • White Facebook Icon

© All Rights reserved for Befikar Postman