INDIA Vs China: भारत-चीन के सैनिकों के बीच हुए हिंसक झड़प की इनसाइड स्टोरी

लद्दाख में सीमा पर विवाद को शांति से सुलझाने की भारत की कोशिशों के बीच चीन ने धोखेबाजी की है। सोमवार रात शांतिपूर्ण बातचीत करने गए भारतीय कमांडिंग अफसर से चीन के सैनिकों ने बहस की और उन पर पत्थरों, डंडों और नुकीले हथियारों से हमला बोल दिया।

INDIA Vs China: भारत-चीन के सैनिकों के बीच हुए हिंसक झड़प की इनसाइड स्टोरी

भारत और चीन के बीच लद्दाख बॉर्डर पर मई से जारी तनाव अब काफी बढ़ गया है. सोमवार की रात को गलवान घाटी में भारत और चीनी सैनिकों के बीच हिंसक झड़प हुई. 6 जून को हुई बैठक में चीन ने वादा किया था कि वो अपने सैनिकों को पीछे हटाएगा, लेकिन उसने ऐसा नहीं किया. इसी के बाद जब भारतीय सेना चेकिंग के लिए पहुंची तो दोनों देशों के सैनिक आमने सामने आ गए. इस हिंसक झड़प में दोनों देशों की सेनाओं को भारी नुकसान हुआ है.

INDIA Vs China घटनाक्रम पर नज़र डालते है

आइए एक बार INDIA Vs China घटनाक्रम पर नज़र डालते है


INDIA Vs China: चीनी सैनिको ने अंधेरे मे किया हमला


चार मई को पूर्वी लद्दाख के गलवान घाटी और पैंगॉग झील इलाकों में चीन की घुसपैठ के बाद उसके सैन्य अधिकारी जहां भारत के साथ लगातार शांति वार्ता कर रहे थे, वहीं 15 जून की रात उसके सैनिकों ने रात के अंधेरे में भारतीय सैनिकों पर हमला बोल दिया।


INDIA Vs China: लेफ्टिनेंट जनरल स्तर के अधिकारिओ से हो चुकी बातचीत


भारत और चीन के बीच पहली बार लेफ्टिनेंट जनरल स्तर के सैन्य अधिकारियों की बैठक 6 जून को हुई। बैठक में भारत की ओर से, लेह स्थित भारतीय सेना की 14वीं कोर के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह शामिल हुए।


INDIA Vs China: जोशी ने की जमीनी हालात की समीक्षा


उससे पहले भारतीय सेना की उत्तरी कमान के कमांडिंग अफसर लेफ्टिनेंट जनरल वाई के जोशी ने जमीनी हालात की समीक्षा के लिए लेह का दौरा किया था।


INDIA Vs China: लोकल कमांडर के बीच हो चुकी दस दौर की बातचीत

इससे पहले दोनों ओर की सीमा चौकियों पर लोकल कमांडर के बीच दस दौर की बातचीत हो चुकी थी। इनमें से तीन बैठकें तो मेजर जनरल स्तर की हुई थीं। मेजर जनरल रैंक के अधिकारियों की अंतिम बातचीत 2 जून को हुई थी।


INDIA Vs China: सौ बार से बढ़कर छह सौ बार तक पहुंच गई अतिक्रमण की घटना


वास्तविक नियंत्रण रेखा पर चीन के अतिक्रमण की घटनाएं साल में सौ बार से बढ़कर छह सौ बार तक पहुंच गई हैं। दोनों देशों के सैनिकों के बीच जहां तीन साल में कभी एक बार भिड़ंत होती थी, वहीं पिछले एक साल में तीन बार हाथापाई की घटनाएं हो चुकी हैं।


INDIA Vs China: इस हमले से किसका कितना नुकसान हुआ


गलवान घाटी में हुई इस हिंसक झड़प में भारत के कुल 20 जवान शहीद हो गए हैं. भारतीय सेना के विस्तृत बयान के अनुसार 6 जून के समझौते के अनुसार गलवान घाटी के पास सैनिकों के पीछे हटने की प्रक्रिया जारी थी. जब भारतीय सैनिक बॉर्डर किनारे चीन की स्थिति को जांचने पहुंचा, तब दोनों देशों के सैनिकों के बीच भिड़ंत हो गई.


चीन को भी भारी नुकसान हुआ है. समाचार एजेंसी ANI के मुताबिक इस हिंसक झड़प में चीन के 43 सैनिक हताहत हुए हैं.


ऐसा करीब 45 साल बाद हुआ है, जब भारत-चीन बॉर्डर पर किसी तरह की हिंसा या झड़प में इतनी जानें गई हों. चीन ने अब अपील की है कि भारत विवाद को छोड़ बातचीत की टेबल पर आए.

13 views

Subscribe to Our Newsletter

  • White Facebook Icon

© All Rights reserved for Befikar Postman