Nepal Map Dispute: कुर्सी बचाने के लिए चीन-पाक के मदद से ओली चल रहे है ये चाल, जानिए इस रिपोर्ट में

Nepal Dispute: भारत के खिलाफ लगातार बयानबाजी कर रहे नेपाल के प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली अब अपनी कुर्सी बचाए रखने के लिए नया चाल चलनेवाले हैं। लगातार उठ रही इस्तीफे की मांग के बीच ओली ने अपनी ही पार्टी को तोड़ कर और विपक्षी पार्टी को साथ लेकर सरकार में बने रहने का प्लान तैयार किया है।

Nepal Map Dispute: कुर्सी बचाने के लिए चीन-पाक के मदद से ओली चल रहे है ये चाल, जानिए इस रिपोर्ट में

यह सब आसानी से हो पाए इसके लिए वह कुछ ऐक्ट्स में संशोधन करने वाले हैं। ओली वहां मुख्य विपक्षी पार्टी नेपाली कांग्रेस के संपर्क में हैं, जिनसे उन्हें सपॉर्ट मिल सके। दरअसल, ओली अध्यादेश लाकर पॉलिटिकल पार्टीज ऐक्ट में बदलाव कर सकते हैं। इससे उन्हें पार्टी को बांटने में आसानी होगी। इस सभी षडयंत्रो में चीन और पाकिस्तान ओली का पूरा समर्थन कर रहे है। ओली का सत्ता मोह ऐसा की नेपाल को गुलाम बनाने को तैयार।


नक्शे पर विवाद (Nepal Dispute) के बीच ओली भारत के खिलाफ बयानबाजी कर रहे हैं। नेपाल कम्यूनिस्ट पार्टी में ज्यादातर लोग इस वक्त ओली के खिलाफ हैं। पार्टी की स्टेंडिंग कमिटी के 44 में से 30 लोगों ने ओली से इस्तीफा देने को कहा था। अध्यादेश के बाद ओली को अपनी स्थिति मजबूत करने का वक्त मिलेगा और तब तक उनके खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव भी नहीं लाया जा सकेगा और जरूरत पड़ने पर वह पार्टी को बांट भी सकेंगे।


पार्टी में कुछ खास नाम हैं जिनसे ओली की नहीं बन रही। इसमें पुष्प कमल दहल, बामदेव गौत, झाला नाथ और माधव कुमार नेपाल शामिल हैं।


अगर पार्टी टूटती है तो ओली को अपने समर्थन में 138 सांसद दिखाने होंगे। लेकिन अध्यादेश के बाद उन्हें सिर्फ 30 प्रतिशत सांसद का सपॉर्ट दिखाना होगा। ऐसे में ओली के लिए चीजें आसान होंगी क्योंकि 40 प्रतिशत सांसद उनकी तरफ हैं

Subscribe to Our Newsletter

  • White Facebook Icon

© All Rights reserved for Befikar Postman