Sushant Singh Rajput Suicide Mystery: सुशांत सिंह राजपूत की कंपनी में मालिकाना हक किसके पास था?

Sushant Singh Rajput Suicide Mystery: सुशांत सिंह राजपुत आत्महत्या मामले में एक के बाद एक नए नए खुलासे हो रहे है जो की सोची समझी साजिश की तरफ इशारा कर रही है। बीते समय में सुप्रीम कोर्ट ने यह मामला CBI को दे दिया वही प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने भी इस केस पर अपनी गिरफ्त बना ली है। लगातार प्रवर्तन निदेशालय (ED) इस बात की तफ्तीश में लगी हुई है की कहीं यह मामला धोखाधड़ी का तो नहीं।

Sushant Singh Rajput Suicide Mystery: सुशांत सिंह राजपूत की कंपनी में मालिकाना हक किसके पास था?

Sushant Singh Rajput Suicide Mystery: बीते दिन ही प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने रिया चक्रवर्ती के भाई शौविक चक्रवर्ती से मनी लॉन्ड्रिंग को लेकर लगातार 18 घंटे तक पूछताछ की मैराथन पूछताछ की है। अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती और उनके परिवार के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय (ED) का शिकंजा कसता दिख रहा है। प्रवर्तन निदेशालय (ED) सोमवार यानी आज रिया चक्रवर्ती, उनके भाई शोविक चक्रवर्ती और उनके पिता इंद्रजीत चक्रवर्ती से एक साथ पूछताछ की तैयारी में है। दरअसल ईडी सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) की उन 4 कंपनियों की तह खंगालने में जुटी है, जिसमें रिया, शोविक और उनके पिता के करोड़ों के कारोबार की कड़ियां एक दूसरे से जुड़ी हैं।


जब कंपनियों के पेटेंट सुशांत ने करवाया तो रिया और शौविक मालिक का मालिकाना हक कैसे?


सूत्रों के मुताबिक, सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) ने अपनी 4 कंपनियों में से 2 के पेटेंट कराए थे। सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) की पेटेंट की गई कंपनी में रिया और शौविक डायरेक्टर थे। इस कंपनी का नाम है विविड्रेज रियलिटीएक्स प्राइवेट लिमिटेड (VIVIDRAGE RHEALITYX PRIVATE LIMITED)। सुशांत ने इस आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर आधारित गेमिंग कंपनी को स्टार्टअप के तहत इस कंपनी को सितंबर 2019 में रजिस्टर्ड करवाया था। और इस कंपनी के पेंटट के लीगल राइट्स सुशांत सिंह राजपूत के अलावा रिया चक्रबर्ती और शोविक पास भी थे।


यानी अगर पेटेंट को बेचा जाए तो करोड़ों की कमाई की जा सकती है। ऐसे में सुशांत की आत्महत्या के बाद इस पर लीगल राइट्स रिया और शौविक का है, जो कि बाकी बचे डायरेक्टर हैं। और भी चौकाने वाला खुलासा तब हुआ जब पता चला की इस कंपनी को सुशांत ने शुरू किया था, लेकिन इस कंपनी पर मालिकाना हक और दस्तख़त शौविक चक्रबर्ती के चलते थे। यही कारण है ये पूरा मामला संदेहास्पद है और प्रवर्तन निदेशालय अब इस पर आगे छानबीन शुरू कर रही है।


Sushant Singh Rajput Suicide Mystery: अब यह पेटेंट क्या होता है?


पेटेंट कराना यानी कि जो भी प्रोडक्ट आपने इन्वेंट किया है वो आजतक मौजूद नहीं था। ऐसे प्रोडक्ट या सर्विसेज पर आपका लीगल कॉपीराइट यानि हक़ होता है और भविष्य में कोई भी उसी तरह का प्रोडक्ट बनाए तो उसे आपसे कोलैबोरैट यानि समझौता करना पड़ता है। पेटेंट की गई चीज का कॉपीराइट होने के चलते ही उस चीज की कीमत कई करोड़ रुपयों में होती है।


Sushant Singh Rajput Suicide Mystery: ख़राब मानसिक हालत का फायदा उठाने का शक


वहीं दूसरी तरफ जब इस कंपनी का पते को खंगाला गया जो की नवी मुंबई के एक फ्लैट का है, तब पता चला की उस फ्लैट पर न तो कोई स्टार्ट अप कंपनी है, न ही दफ्तर उस पर रिया चक्रवर्ती के पिता इंद्रजीत चक्रवर्ती का नाम लगा हुआ है। ऐसे में शक है कि कहीं सुशांत की खराब मानसिक हालात का फायदा उठाते हुए सेल कम्पनियों को बनाकर करोड़ों का फर्जीवाड़ा तो नहीं किया गया। ईडी इसी मामले में इंद्रजीत चक्रवर्ती से पूछताछ करने की तैयारी में है। इस मामले में कंपनी के ऑडिटर चार्टेड अकाउंटेंट संदीप श्रीधर का बयान ईडी ने दर्ज किया है।

Subscribe to Our Newsletter

  • White Facebook Icon

© All Rights reserved for Befikar Postman