UP Judicial System: न्याय चाहिए तो मरना होगा: UP न्यायव्यवस्था, झकझोड़ कर रख देगी ये रिपोर्ट जरूर पढ़े

UP Judicial System | UP न्यायव्यवस्था: वैसे तो उत्तरप्रदेश हमेशा से ही क्राइम में सबसे अलग राज्य रहा है। एक तरफ जब समाजवादी पार्टी की सत्ता थी तब भी उत्तरप्रदेश आगे था और जब मायावती की सत्ता थी तब भी क्राइम अलग स्तर पर था। आज हम इस रिपोर्ट में जानेंगे की ऐसा क्या है उत्तरप्रदेश की न्यावयवस्था में जिसके वजह से अपराध इस कदर बढ़ जाता है की इनकाउंटर में अपराधियों को मार गिरना पड़ता है।

UP Judicial System: न्याय चाहिए तो मरना होगा: UP न्यायव्यवस्था, झकझोड़ कर रख देगी ये रिपोर्ट जरूर पढ़े

UP Judicial System | UP न्यायव्यवस्था: आज हम सिर्फ जुलाई 2020 के ही 3 बड़े कांड उठा रहे है जिससे उत्तरप्रदेश पुलिस के नकारेपन का एहसास हो जायेगा। पूरी रिपोर्ट जरूर पढ़े।


कानपूर | बिकरू | विकास दुबे | हत्याकांड

1. UP Judicial System | UP न्यायव्यवस्था: कानपूर | बिकरू | विकास दुबे | हत्याकांड


कानपुर के बिकरू गांव के रहने वाले एक शख्स ने पुलिस थाने में हत्या के प्रयास का शिकायत दर्ज करवाया। उसी शिकायत पर पुलिस की एक टीम सीओ देवेंद्र मिश्र के नेतृत्व में दबिश देने गयी लेकिन पुलिस के ही कुछ मुखबिरों ने पहले से ही विकास दुबे को खबर पंहुचा दिया था। जैसे ही पुलिस वह पहुँचती है। वैसे ही विकास दुबे के गुंडे पुलिस के टीम पर ताबरतोड़ उन पर गोलियों की बरसात करने लगते है। इस कांड में 8 पुलिस वालो की मौत हो जाती है।


विकास दुबे पहले से ही लगभग 60 से अधिक गंभीर आपराधिक मामले चल रहे थे। तो सवाल यह है की किसके मदद से इतना खूंखार अपराधी खुला घूम रहा था? प्रशासन में कौन वो ग़दर है जिसके वजह से 8 पुलिस वाले मरे गए। क्या स्थानीय प्रशासन और न्यायव्यवस्था को विकास दुबे जैसे अपराधी हत्या, लूटपाट जैसे अपराध करने के बाद भी ऐसे ही खुले घूमना जायज लगा?


जैसे ही 8 पुलिस वाले शहीद हुए वैसे ही नाटकीय ढंग से विकास दुबे को इनकाउंटर में मार गिराया गया।

2. UP Judicial System | UP न्यायव्यवस्था:

अमेठी | माँ और बेटी | मुख्यमंत्री कार्यालय के बाहर | आत्मदाह का प्रयास


अमेठी | माँ और बेटी | मुख्यमंत्री कार्यालय के बाहर | आत्मदाह का प्रयास

अमेठी की महिला और उसकी बेटी ने संपत्ति विवाद मामले में पुलिस की नकारेपन के कारण शुक्रवार शाम लखनऊ के हजरतगंज इलाके में मुख्यमंत्री कार्यालय (सीएमओ) के बाहर आत्मदाह का प्रयास किया। अस्पताल के डॉक्टरों के मुताबिक, मां 80 प्रतिशत जल चुकी है और उसकी हालत गंभीर है।


मां-बेटी की जोड़ी उत्तर प्रदेश के अमेठी जिले के जामो इलाके से ताल्लुक रखती है और इलाके में रहने वाले लोगों के खिलाफ एक संपत्ति विवाद को लेकर उनकी पिटाई करने की शिकायत दर्ज की गई थी। लेकिन स्थानीय पुलिस ने किसी भी तरह की कोई करवाई नहीं की। इलाज के दौरान उनकी मृत्यु हो गयी और बेटी का अभी इलाज चल रहा है। उसके बाद प्रदेश सरकार हरकत में आयी और ताबरतोड़ काम शुरू हुआ।


3. UP Judicial System | UP न्यायव्यवस्था:

गाजियाबाद | पत्रकार विक्रम जोशी | बदमाशो ने सर में गोली मार दी


3. गाजियाबाद | पत्रकार विक्रम जोशी | बदमाशो ने सर में गोली मार दी

बहुत ही हाल ही का मामला है जब विक्रम जोशी अपने बहन के घर से अपने दोनों बेटियों के साथ निकल रहे थे। तभी कुछ बदमाशों ने उन्हें घेर लिया और पहले खूब मारा और फिर सर में गोली मार दी।


क्या किया था विक्रम जोशी ने? दरअसल पिछले एक साल से ये मनचले विक्रम के भतीजी को छेड़ रहे थे। विक्रम जोशी और उनके परिवार ने कई बार पुलिस में शिकायत दर्ज करवाया लेकिन मजाल स्थानीय पुलिस के कानो पर जू भी रेंग जाये। जिस रात विक्रम जोशी की हत्या हुई थी उस रात भी स्थानीय पुलिस को विक्रम जोशी ने फ़ोन किया था लेकिन पुलिस के आलसीपन और नकारेपन ने विक्रम जोशी की जान ले ली।


इलाज के दौरान विक्रम जोशी की मृत्यु हो गयी। उसके बाद फिर प्रदेश सरकार की आँखे खुली और फिर राजनीती शुरू और ताबरतोड़ काम शुरू हुआ।


इसके अलावा हजारो ऐसे मामले है जिस पर अभी तक स्थानीय पुलिस ने हरकत भी नहीं किया है। तो क्या अब न्याय वयवस्था सिर्फ इनकाउंटर पर निर्भर है। क्या पुलिस प्रशासन किसी गंभीर अपराध होने का इंतजार करते रहते है।


अब तो कोई ये भी नहीं कह सकता की मई तेरी पुलिस में शिकायत कर दूंगा। क्यों की हमारी न्याय व्यवस्था तो एक गहरी नींद में चली गयी जिसको पुलिस प्रशासन के भ्रष्टाचार के चादर ने और गहरी नींद में धकेल दिया है। आज जरुरत है लोकतंत्र में न्याय को बनाये रखने की।


भारत एक लोकतान्त्रिक देश है जहा पर भी पब्लिक सर्वेंट को जनता की बातें सुननी पड़ेगी। सिर्फ भाषण में उत्तरप्रदेश भ्रष्टाचार मुक्त या अपराध मुक्त होने से असलियत नहीं बदल जाएगी। जरुरत है तो जवाबदेही तय करने की और सवाल करने की, की क्यों समय से करवाई नहीं हो पायी जिसके वजह से इतने बड़े कांड हो गया।


सोचिये समझिये और बदलाव के लिए पोस्ट शेयर करे। स्वस्थ रहिये खुद का और अपनों का खास ख्याल रखिये।

18 views

Subscribe to Our Newsletter

  • White Facebook Icon

© All Rights reserved for Befikar Postman