Vikram Joshi: पत्रकार विक्रम जोशी की इलाज के दौरान मौत, बदमाशों ने सिर पर मारी थी गोली

गाजियाबाद के विजयनगर इलाके में बेखौफ बदमाशों के हमले में घायल हुए पत्रकार विक्रम जोशी (Vikram Jhoshi) की मंगलवार देर रात इलाज के दौरान मौत हो गई। गोली मारने से पहले बदमाशों ने पत्रकार (Vikram Joshi) को बुरी तरह पीटा भी था। वारदात की CCTV फुटेज भी हमारे पास है। यह पूरी रिपोर्ट जरूर पढ़िए।

Vikram Joshi: पत्रकार विक्रम जोशी की इलाज के दौरान मौत, बदमाशों ने सिर पर मारी थी गोली

पत्रकार विक्रम जोशी (Vikram Joshi) के भाई अनिकेत के मुताबिक रविवार की रात करीब 10:30 बजे उनका भाई अपनी दो बेटियों के साथ बाइक से घर जा रहे थे। माता कॉलोनी में अग्रवाल स्वीट्स के पास छोटू पुत्र कमालुद्दीन, आकाश विहारी और रवि पुत्र मातादीन अपने कुछ साथियों के साथ आए और उनके भाई के साथ मारपीट शुरू कर दी।


इसके बाद आरोपियों में से छोटू ने तमंचा निकालकर विक्रम (Vikram Joshi) के सिर में गोली मार दी। आनन फानन में उनको अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां मंगलवार देर रात उनकी मौत हो गई।

क्या है पूरा मामला?


दरअसल विक्रम जोशी ने भांजी गलत व्यवहार के खिलाफ पुलिस में पहले ही तहरीर दे दी थी। तहरीर देने से नाराज बदमाशों ने सोमवार रात 10 बज कर 20 मिनट पर पहले मारपीट किया गया उसके बाद विक्रम को गोली मार दी। विक्रम के सिर में गोली लगी थी। फिर उन्हें गंभीर हालत में यशोदा अस्पताल में भर्ती करवाया गया।


यह भी पढ़े: बेखौफ बदमाश ने पत्रकार को मारी गोली, पुलिस प्रशासन की सुस्ती बोले करवाई करेंगे


अब इस पर राजनीती भी शुरू हो गयी


प्रियंका गांधी ने मोदी सरकार को घेरा


पत्रकार पर जानलेवा हमले को लेकर कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने ट्वीट करते हुए कहा है कि एक पत्रकार को इसलिए गोली मार दी गई क्योंकि उन्होंने भांजी के साथ छेड़छाड़ की तहरीर पुलिस में दी थी। आमजन खुद को कैसे सुरक्षित महसूस करेगा?


अखिलेश यादव ने भी सवाल उठाया


समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने ट्वीट करते हुए वर्तमान में कानून व्यवस्था पर सवाल उठाया है। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार स्पष्ट करे कि कानून-व्यवस्था की धज्जियां उड़ाने वाले इन अपराधियों-बदमाशों के हौसले किसके बलबूते पर फल-फूल रहे हैं।


सच तो ये है की पुलिस के नकारेपन और स्थानीय प्रसाशन के सुस्ती के वजह से आज अपराध और बढ़ते जा रहे है। चाहे कितनी भी विकास दुबे मरे जाये लेकिन पुलिस और प्रसाशन की सुस्ती के वजह से ही ऐसे अपराध हो रहे है और अगर आज प्रसाशन नहीं जगी तो आगे भी होते रहेंगे। अब न्याय वयवस्था कैसी जहां पर पुलिस के पास जाओ तो गोली मर दी जाएगी।


जब भी कही कुछ गलत होता है तो बोला जाता है की पुलिस के पास चलते है लेकिन अब तो वो भी कोई नहीं बोलेगा, क्यों की दर बदमाश का नहीं है डर तो यह है की जिसके पास जा रहे वो न्यायव्यवस्था तो एक गहरी नींद में सो रही है।


आप सुरक्षित रहिये और अपनों का खास ख्याल रखिए।

10 views

Subscribe to Our Newsletter

  • White Facebook Icon

© All Rights reserved for Befikar Postman